रामायण के मुख्य पात्र हनुमान की कहानी | भक्ति और शक्ति का प्रतीक हनुमान की जीवनी

रामायण के मुख्य पात्र हनुमान की कहानी | भक्ति और शक्ति का प्रतीक हनुमान की जीवनी

हनुमान हिंदू पौराणिक कथाओं के सबसे लोकप्रिय और प्रसन्न देवताओं में से एक हैं। हनुमान आध्यात्मिक जीवन के लिए आवश्यक सभी गुणों के प्रतीक हैं- शारीरिक और मानसिक शक्ति, साहस, विनम्रता, श्रद्धा, भक्ति और अपने भगवान राम के प्रति समर्पण। महान हिंदू महाकाव्य रामायण में सबसे...

रामायण की मुख्य चरित्र माता सीता के जीवन की कहानी | साहस और धैर्य की प्रतीक माँ सीता

रामायण की मुख्य चरित्र माता सीता के जीवन की कहानी | साहस और धैर्य की प्रतीक माँ सीता

देवी सीता हिंदू पौराणिक कथाओं में श्री महा विष्णु के सातवें अवतार भगवान राम की पत्नी हैं। सीता देवी एक प्रमुख हिंदू महाकाव्य रामायण में मुख्य पात्र है। बिहार (भारत) में सीतामढ़ी (पुनौरा) में जन्मी सीता को उनके पिता महाराजा जनक द्वारा उनके जन्म के तुरंत बाद जनकपुर...

महाभारत के महान योद्धा अर्जुन की जीवनी | अब तक का सबसे महान धनुर्धर अर्जुन की कहानी

महाभारत के महान योद्धा अर्जुन की जीवनी | अब तक का सबसे महान धनुर्धर अर्जुन की कहानी

पांडव भाइयों में से तीसरे अर्जुन, महाभारत में एक मुख्य नायक थे। उन्हें अक्सर जिष्णु कहा जाता है- अपराजेय। उन्हें नारायण के शाश्वत साथी, ऋषि नारा का पुनर्जन्म भी माना जाता है। अर्जुन स्वयं भगवान कृष्ण के प्रिय मित्र, बहनोई भी थे। वास्तव में केवल कृष्ण के अटूट समर्थन ने...

अगहन मास पूर्णिमा पर्व 2021, इस दिन भगवान श्री कृष्ण का विशेष आशीर्वाद प्राप्त होता है

अगहन मास पूर्णिमा पर्व 2021, इस दिन भगवान श्री कृष्ण का विशेष आशीर्वाद प्राप्त होता है

अगहन मास या मार्गशीर्ष पूर्णिमा का उपवास रखने से व्यक्ति के पाप नष्ट होते हैं। अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है। सुख समृद्धि की प्राप्ति होती है। मानसिक तनाव से मुक्ति मिलती है। जिन जातकों की कुंडली में चंद्र दोष है चंद्र राहु या केतु अथवा शनि से पीड़ित है, चंद्रमा...

मोक्षदा एकादशी 2021 मुहूर्त, व्रत विधि, पूजा विधि, व्रत के लाभ

मोक्षदा एकादशी 2021 मुहूर्त, व्रत विधि, पूजा विधि, व्रत के लाभ

मार्गशीर्ष माह की शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को मोक्षदा एकादशी उपवास रखा जाता है। धार्मिक मान्यतानुसार श्री हरि विष्णु प्रसन्न होकर मनुष्य की सभी मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं और मृत्यु के उपरांत बैकुंठ लोक की प्राप्ति होती है। इस बार मोक्षदा एकादशी पर सर्वार्थ सिद्धि योग...

कुम्भ का इतिहास, पौराणिकता क्या है? और कुम्भ तथा सिंहस्थ में क्या अंतर है?

कुम्भ का इतिहास, पौराणिकता क्या है? और कुम्भ तथा सिंहस्थ में क्या अंतर है?

मेरी रामकहानी से जैसे गंगामैया अलग नहीं हो सकती वैसे ही अलग नहीं किए जा सकते कुम्भ (Kumbh) और अर्द्धकुम्भ पर्व। गंगास्नानों के विभिन्न पर्व जैसे बैसाखी, संक्रातियों के पर्व, चन्द्र सूर्यग्रहणों के पर्व, पूर्णिमा अमावस्या एकादशी के स्नान पर्व और कांवड़ जैसे लक्खी मेले...

सीता माता का ये एक मात्र अनोखा और प्राचीन रामायण कालीन मंदिर हैं

सीता माता का ये एक मात्र अनोखा और प्राचीन रामायण कालीन मंदिर हैं

मध्यप्रदेश के अशोकनगर जिले से 35 किलोमीटर दूर करीला ग्राम में रंगपंचमी के दिन एक भव्य मेला का आयोजन होता है। मान्यता है कि यहां माता सीता और उनके पुत्र लव-कुश का एक मात्र ऐसा दुर्लभ मंदिर है जो भारत में कहीं नहीं हैं। माता सीता करीला में भगवान राम के बिना अकेले ही...

महाभारत के महान योद्धा कर्ण की जीवनी | दानवीर कर्ण की कहानी

महाभारत के महान योद्धा कर्ण की जीवनी | दानवीर कर्ण की कहानी

कर्ण या राधेय, जैसा कि उन्हें भी संदर्भित किया जाता है, महाभारत में एक महत्वपूर्ण चरित्र है। अंग के राजा कर्ण, कुंती और भगवान सूर्य के पुत्र थे। कर्ण कौरव भाइयों में सबसे बड़े दुर्योधन का सबसे करीबी दोस्त थे। कुरुक्षेत्र युद्ध के दौरान उन्होंने अपने ही भाइयों के खिलाफ...

महाभारत के महान योद्धा वीर अभिमन्यु के जीवन से शिक्षा

महाभारत के महान योद्धा वीर अभिमन्यु के जीवन से शिक्षा

महाभारत युद्ध के दौरान अभिमन्यु के चक्रव्यूह में फंसने की कई कहानिया है और उनमे से कुछ कहानी बहुत प्रसिद्ध और लोकप्रिय है। वीरअभिमन्यु अर्जुन और भगवान कृष्ण की बहन सुभद्रा के एकलौते पुत्र थे। अभिमन्यु भी अपने पिता अर्जुन की भाँती वीर, निडर, साहसी और दृढ योद्धा थे,...

महाभारत के महान योद्धा अश्वत्थामा, जो आज भी जीवित है | अश्वत्थामा की जीवनी | अश्वत्थामा की कहानी

महाभारत के महान योद्धा अश्वत्थामा, जो आज भी जीवित है | अश्वत्थामा की जीवनी | अश्वत्थामा की कहानी

अश्वत्थामा, जिनको द्रोणी भी कहा जाता है, क्यूंकि वे गुरु द्रोण के पुत्र थे। वह ऋषि भारद्वाज के पोते थे। एक शक्तिशाली महारथी, उन्होंने कुरुक्षेत्र के महान युद्ध के दौरान, पांडवों के खिलाफ, कौरव पक्ष से लड़ाई लड़ी थी। इनको ग्यारह रूद्रों में से एक अवतारी माना जाता है,...