अगहन मास पूर्णिमा पर्व 2021, इस दिन भगवान श्री कृष्ण का विशेष आशीर्वाद प्राप्त होता है

अगहन मास पूर्णिमा पर्व 2021, इस दिन भगवान श्री कृष्ण का विशेष आशीर्वाद प्राप्त होता है

अगहन मास या मार्गशीर्ष पूर्णिमा का उपवास रखने से व्यक्ति के पाप नष्ट होते हैं। अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है। सुख समृद्धि की प्राप्ति होती है। मानसिक तनाव से मुक्ति मिलती है। जिन जातकों की कुंडली में चंद्र दोष है चंद्र राहु या केतु अथवा शनि से पीड़ित है, चंद्रमा...

मोक्षदा एकादशी 2021 मुहूर्त, व्रत विधि, पूजा विधि, व्रत के लाभ

मोक्षदा एकादशी 2021 मुहूर्त, व्रत विधि, पूजा विधि, व्रत के लाभ

मार्गशीर्ष माह की शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को मोक्षदा एकादशी उपवास रखा जाता है। धार्मिक मान्यतानुसार श्री हरि विष्णु प्रसन्न होकर मनुष्य की सभी मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं और मृत्यु के उपरांत बैकुंठ लोक की प्राप्ति होती है। इस बार मोक्षदा एकादशी पर सर्वार्थ सिद्धि योग...

शादी के सात फेरों और सात फेरों में लिए गए वचन का क्या है प्रयोजन

शादी के सात फेरों और सात फेरों में लिए गए वचन का क्या है प्रयोजन

सनातन संस्कृति में मनुष्य पूर्ण तभी होता है जब उसका विवाह संस्कार होता है। हमारे यहाँ विवाह कोई कार्यक्रम नही एक संस्कार है। गृहस्थ आश्रम की शुरुआत इसी संस्कार के पश्चात होती है। विवाह से पूर्व स्त्री या पुरुष को पूर्ण ब्रह्मचर्य का पालन करना अत्यंत आवश्यक माना गया...

मंगलवार व्रत कथा, पूजन विधि और आरती

मंगलवार व्रत कथा, पूजन विधि और आरती

धन-सम्पत्ति, यश, वैभव और संतान प्राप्ति के लिए प्रत्येक मंगलवार को पूरी दिन व्रत रख कर मंगलवार का व्रत कथा सुनना शुभ माना जाता है। अतः मंगलवार का व्रत करने वाले व्यक्ति को मंगलवार व्रत कथा का श्रवण पूरी श्रद्धा से करना चाहिए। इससे हनुमान जी प्रसन्न होते हैं और सभी...

सोमवार व्रत कथा और व्रत विधि | इस पवित्र व्रत से, भोलेनाथ की कृपा प्राप्त होती है

सोमवार व्रत कथा और व्रत विधि | इस पवित्र व्रत से, भोलेनाथ की कृपा प्राप्त होती है

अगर कोई भी व्यक्ति शिव शंकर भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए सोमवार का व्रत करता है, तो श्रद्धा भाव से सोमवार का व्रत कथा का श्रवण निश्चित रूप से करना चाहिए। शिव बहुत भोले हैं तभी इनका नाम भोलेनाथ है। शिव आराधना अगर सच्ची श्रद्धा से किया जाय तो ये शीघ्र प्रसन्न हो जाते...

चरण स्पर्श से लेकर मांग में सिन्दूर भरने तक का यह चौंकाने वाला वैज्ञानिक कारण

चरण स्पर्श से लेकर मांग में सिन्दूर भरने तक का यह चौंकाने वाला वैज्ञानिक कारण

रीति-रिवाज और परंपराएं हर किसी की व्यक्तिगत आस्था का सवाल होती हैं। हिंदू धर्म में बहुत सी ऐसे रीति-रिवाज हैं जिनके वैज्ञानिक आधार हैं। हाथ जोड़कर नमस्कार करना हिंदू धर्म की प्राचीन परंपरा और सभ्यता है। नमस्कार करने का वैज्ञानिक कारण दोनों हाथों को जोड़कर नमस्कार करने...

देवशयनी एकादशी व्रत विधि, कथा और महत्व

देवशयनी एकादशी व्रत विधि, कथा और महत्व

आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष के एकादशी तिथि को देवशायनी या हरिशायनी एकादशी के नाम से जाना जाता है। हिन्दू धर्म के अनुसार सारे व्रतों में एकादशी व्रत का एक विशेष महत्व है। पौराणिक कथा के अनुसार आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष के एकादशी के दिन भगवान विष्णु पाताल लोक विश्राम के लिए चले...

प्रदोष व्रत की कथा, पूजा की विधि और इसका महत्व क्या है?

प्रदोष व्रत की कथा, पूजा की विधि और इसका महत्व क्या है?

भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए भक्त कई पूजा विधान और व्रत करते है जैसे की कांवड़ यात्रा, अमरनाथ यात्रा, सावन के व्रत, भगवान शिव के लिए सोमवार के व्रत या फिर शिवलिंग पर जल चढ़ाना इत्यादि। अगर देखा जाये तोह भगवान शिव को प्रदोष के व्रत अत्यधिक प्रिय है, इन व्रत के माध्यम...

रविवार व्रत कथा | सूर्य देव जी की व्रत कथा

रविवार व्रत कथा | सूर्य देव जी की व्रत कथा

रविवार भगवान सूर्यदेव का दिन माना जाता है। प्रत्येक रविवार सूर्य देव की पूजा विधिवत करना चाहिए साथ ही पूजा उपरांत व्रत कथा सुनना चाहिए। आइये आज हम जानते है प्रभु सूर्यदेव की कथा और उसकी विधि। सूर्य देव जी की रविवार व्रत की विधि सूर्य देवता का व्रत एक वर्ष या 30 रविवार...