सीता माता का ये एक मात्र अनोखा और प्राचीन रामायण कालीन मंदिर हैं

मध्यप्रदेश के अशोकनगर जिले से 35 किलोमीटर दूर करीला ग्राम में रंगपंचमी के दिन एक भव्य मेला का आयोजन होता है। मान्यता है कि यहां माता सीता और उनके पुत्र लव-कुश का एक मात्र ऐसा दुर्लभ मंदिर है जो भारत में कहीं नहीं हैं। माता सीता करीला में भगवान राम के बिना अकेले ही स्थापित हैं।

कहते हैं यहां जब भगवान श्रीराम ने माता सीता का त्याग कर दिया था उस समय सीता जी वाल्मीकि आश्रम में रही थीं। संभवतः उस समय वाल्मीकि आश्रम यहीं था, ऐसा लोग आज भी मानते हैं। माता सीता ने लव को यहीं जन्म दिया था। और बाद में कुश का अवतरण भी यहीं हुआ। इस खुशी में उस समय यहां रहने वाले लोगों ने नाच-गाकर उन्हें बधाई दी थी।

Source: Patrika

करीला ग्राम में बच्चों के जन्म की मनोकामना लिए कई लोग आते हैं और मनोकामना पूरी होने के बाद इस खुशी में बेड़िया जाति की नृत्यांगनाओं से मंदिर में बधाई नृत्य करवाते हैं। रंगपंचमी में इस तरह का नृत्य में लोग पूरी तरह सराबोर रहते हैं।

यहां हर वर्ष रंगपंचमी पर करीला ग्राम में होली से शुरू हो कर रंगपंचमी तक यह मेला लगता है। जहां लाखों श्रद्धालु आते हैं। वर्षभर यहां कई राजनेता, अभिनेता अपनी-अपनी मनोकामना लेकर आते हैं और मनोकामना पूरी होने पर राई नृत्य जिसे बेड़िया जाति की नृत्यांगनाएं करती हैं। उनसे मंदिर में बधाई नृत्य इस मनोकामना पूरी होने की खुशी में करवाते हैं।

Lokesh Bhardwaj

Leave a Comment

Recent Posts

रामायण के मुख्य पात्र हनुमान की कहानी | भक्ति और शक्ति का प्रतीक हनुमान की जीवनी

हनुमान हिंदू पौराणिक कथाओं के सबसे लोकप्रिय और प्रसन्न देवताओं में से एक हैं। हनुमान…

4 months ago

रामायण की मुख्य चरित्र माता सीता के जीवन की कहानी | साहस और धैर्य की प्रतीक माँ सीता

देवी सीता हिंदू पौराणिक कथाओं में श्री महा विष्णु के सातवें अवतार भगवान राम की…

5 months ago

महाभारत के महान योद्धा अर्जुन की जीवनी | अब तक का सबसे महान धनुर्धर अर्जुन की कहानी

पांडव भाइयों में से तीसरे अर्जुन, महाभारत में एक मुख्य नायक थे। उन्हें अक्सर जिष्णु…

5 months ago

अगहन मास पूर्णिमा पर्व 2021, इस दिन भगवान श्री कृष्ण का विशेष आशीर्वाद प्राप्त होता है

अगहन मास या मार्गशीर्ष पूर्णिमा का उपवास रखने से व्यक्ति के पाप नष्ट होते हैं।…

5 months ago

मोक्षदा एकादशी 2021 मुहूर्त, व्रत विधि, पूजा विधि, व्रत के लाभ

मार्गशीर्ष माह की शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को मोक्षदा एकादशी उपवास रखा जाता है।…

5 months ago

कुम्भ का इतिहास, पौराणिकता क्या है? और कुम्भ तथा सिंहस्थ में क्या अंतर है?

मेरी रामकहानी से जैसे गंगामैया अलग नहीं हो सकती वैसे ही अलग नहीं किए जा…

5 months ago

This website uses cookies.